TV channel sting on private practice of doctor’s in UP

गोरखपुर में मौत के बाद एक निजी चैनल द्वारा प्राइवेट प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टरों पर स्टिंग से हडकंप

आगरालीक्स…. गोरखपुर में मौत के बाद एक निजी चैनल द्वारा प्राइवेट प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टरों पर स्टिंग से हडकंप, आगरा में भी स्टिंग किए जाने की चर्चा, डॉक्टरों में मची खलबली, स्वास्थ्य मंत्री सिदृधार्थ नाथ सिंह ने कार्रवाई के लिए कहा।
गोरखपुर के मेडिकल कॉलेज में अगस्त में 40 बच्चों की मौत हो गई थी, सरकार ने अपनी रिपोर्ट में मौत का कारण आॅक्सीजन की कमी नहीं माना है। इस मामले में पूर्व प्रचार्य डॉ राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी डॉ पूर्णिमा को अरेस्ट कर लिया है। ऐसे में एक टीवी चैनल ने गोरखपुर के डॉक्टरों का स्टिंग किया है जो सरकारी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में कार्यरत हैं। इससे खलबली मची हुई है।
हर जगह प्राइवेट प्रैक्टिस, खानापूर्ति के लिए हॉस्पिटल
यह हाल पूरे उत्तर प्रदेश का है, हर जगह सरकारी डॉक्टर खानापूर्ति के लिए डयूटी करने आ रहे हैं। उनका ध्यान प्राइवेट प्रैक्टिस पर ही रहता है। आगरा में भी डॉक्टरों पर प्राइवेट प्रैक्टिस् करने के आरोप लगते रहे हैं, यहां एक डॉक्टर पर एसएन में मरीज को भर्ती करने के बाद उससे प्राइवेट प्रैक्टिस के बतौर पैसे लेने के भी आरोप लगे थे।
सस्पेंड भी हुए हैं डॉक्टर
प्राइवेट प्रैक्टिस में एसएन के कई डॉक्टर सस्पेंड भी हुए हैं, इनकी अच्छी प्रैक्टिस चलती है और ये एसएन में खानापूर्ति के लिए ही आते हैं।
संविदा डॉक्टर बेखौफ
इस सबके बीच संविदा डॉक्टर बेखौफ हैं, उन्हें प्राइवेट प्रैक्टिस की छूट है लेकिन ये हॉस्पिटल के टाइम में भी प्राइवेट प्रैक्टिस कर रहे हैं। अपने बोर्ड पर लिखा रखा है एसएन मेडिकल कॉलेज में एसोसिएट और असिस्टेंट प्रोफेसर;