Rs 30 Crore Fraud Case: Varun Industries Limited Kailash Agarwal present in Agra Court

आगरा में करोडों रुपये की धोखाधडी करने वाले कारोबारी को मुंबई पुलिस आगरा लेकर आई, सीबीआई ने उसे दुबई से गिरफ्तार किया था, आगरा में उसे सीजेएम कोर्ट में पेश किया गया।

आगरालीक्स…. आगरा में करोडों रुपये की धोखाधडी करने वाले कारोबारी को मुंबई पुलिस आगरा लेकर आई, सीबीआई ने उसे दुबई से गिरफ्तार किया था, आगरा में उसे सीजेएम कोर्ट में पेश किया गया। सीजेएम कविता मिश्रा ने धोखाधड़ी के मामले में उसे तीन अक्टूबर तक जेल भेजते हुए मुंबई की आर्थर जेल के अधीक्षक को आदेश दिया कि वह निर्धारित तिथि पर आरोपी को कोर्ट में पेश करें। आरोपी पर एसई इन्वेस्टमेंट कंपनी के लोन के तीस करोड़ रुपये हड़पने का आरोप है।
आरोपी कैलाश श्रीराम अग्रवाल मैसर्स वरुण इंडस्ट्रीज लिमिटेड 13 शंकरेवर दर्शन एजी पवार क्रॉस लेन बाईकुला मुंबई का निदेशक है। उसने और दो निदेशकों किरन कुमार व वरुण किरन कुमार ने वर्ष 2011 में लोन के लिए एसई इन्वेस्टमेंट में आवेदन किया था। आरोपियों ने 22 करोड़ का लोन लिया। अब तीस करोड़ रुपये एसई इन्वेस्टमेंट के आरोपियों पर बकाया है। अपने शेयर्स कंपनी के पास बंधक रखवाए थे, लेकिन उनकी कीमत काफी कम थी। लोन न चुकाने पर एसई इन्वेस्टमेंट ने आरोपियों के खिलाफ वर्ष 2014 में थाना हरीपर्वत में मुकदमा दर्ज कराया था। आरोपी कैलाश ने हाईकोर्ट से स्टे ले लिया था। चार्जशीट दाखिल होने के बाद वह हाजिर नहीं हुए थे वारंट जारी किए गए। मामले में बी वारंट के आधार पर मंगलवार को आर्थर रोड जेल से कड़ी सुरक्षा में पुलिस ने कोर्ट में पेश किया। एसई इन्वेस्टमेंट की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता अचल शर्मा, आनंद सारस्वत, रवि अरोरा व दीपक शर्मा ने पक्ष रखा। वहीं आरोपी की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता उपेंद्र मिश्रा मौजूद रहे। आरोपी पर सीबीआई ने कई केस दर्ज किए हैं।
मुंबई एयरपोर्ट से किया अरेस्ट
आरोपी को सीबीआई ने अगस्त माह में मुंबई एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया था। जब वह दुबई भागने के फिराक में था।2,500 करोड़ की धोखाधड़ी का खेल-दस बड़े बकायेदारों में से एक मैसर्स वरुण इंडस्ट्रीज का है डायरेक्टर – अन्य के साथ मिल हड़पे थे लोन के करोड़ोंआगरा। आरोपी कैलाश श्रीराम अग्रवाल पर विभिन्न बैंकों और संस्थाओं का 2,500 करोड़ की धोखाधड़ी व गबन का आरोप है। आरोपी देश के दस बड़े बकायेदारों में से एक है। वह अपने बिजनेस पार्टनर किरण मेहता के साथ देश से बाहर चला गया था। पांच अगस्त को जब कैलाश अग्रवाल दुबई से लौटा तो सीबीआई ने उसे मुंबई एयरपोर्ट से दबोच था। मुंबई की स्थानीय कोर्ट ने उसे रिमांड पर भेज दिया था। तभी से वह आर्थर रोड स्थित जेल में है। पांच सितंबर को आगरा की कोर्ट ने अधीक्षक आर्थर रोड जेल को पत्र भेजा था। कहा था कि धारा 406, 409, 418, 420, 467, 468, 471, 504, 506, 120 बी के मामले से संबंधित आरोपी कैलाश थाना हरीपर्वत के उपरोक्त मुकदमे में वांछित है। आरोपी के विरुद्ध 24 अगस्त के लिए बी वारंट जारी किया गया था तथा पांच सितंबर को आरोपी को इस न्यायालय में पेश किए जाने के लिए पूर्व में भी पत्र प्रेषित किया था। आरोपी को पेश न करने पर अदालत ने नाराजगी जताई थी। कई बैंकों को लगाया करोड़ों का चूनाआरोपियों ने कथित तौर पर चेन्नई स्थित इंडियन बैंक को 33 करोड़ का चूना लगाया था। इसके अलावा कई अन्य बैंकों से 1,593 करोड़ रुपये लिए थे।