​आगरा की जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी को खींचतान

आगरा में सपा से जिला पंचायत अध्यक्ष कुशल यादव के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का प्रत्यावेदन दिया गया है।

आगरालीक्स ….आगरा में सपा से जिला पंचायत अध्यक्ष कुशल यादव के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का प्रत्यावेदन दिया गया है। 51 जिला पंचायत सदस्यों में से 38 सदस्यों ने सोमवार को प्रभारी डीएम व सीडीओ रविंद्र कुमार को अश्विवास प्रस्ताव का प्रत्यावेदन सौंपा, इसे सपा से चुनी गईं जिला पंचायत अध्यक्ष कुशल यादव के सामने कुर्सी बचाने का संकट मंडरा रहा है।

आगरा में जिला पंयाचत के 51 सदस्य हैं, सपा सरकार में हुए जिला पंचायत चुनाव में हंगाम के बाद सपा से जिला पंचायत अध्यक्ष कुशल यादव चुनी गईं थी। भाजपा सरकार आने के बाद जिला पंचायत अध्यक्ष को लेकर सरगर्मी शुरू हो गईं थी, सोमवार को सपा से निष्कासित हरेंद्र सिंह और राकेश बघेल अपने साथ 38 जिला पंचायत सदस्यों को लेकर प्रभारी डीएम के पास पहुंचे, उन्हें जिला पंचायत अध्यक्ष कुशल यादव के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का प्रत्यावेदन सौंपा।
बैठक में बहुमत कराना होगा साबित
अविश्वास प्रस्ताव के बाद जिला पंचायत कार्यालय पर सभी सदस्यों की बैठक बुलाई जाएगी, इस बैठक में जिला पंचायत अध्यक्ष कुशल यादव को बहुमत साबित करना होगा, उन्हें बहुमत के लिए 28 सदस्यों का समर्थन चाहिए। इसमें असफल रहने पर शासन को रिपोर्ट भेजी जाएगी। इसके बाद जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए चुनाव होंगे और नया जिला पंचायत अध्यक्ष चुना जाएगा।
भाजपा में भी कई दावेदार
जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए भाजपा में कई दावेदार हैं, जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के लिए सपा की कुशल यादव के सामने सांसद चौधरी बाबूलाल के बेटे थे लेकिन वे चुनाव हार गए। इस बार राकेश बघेल अध्यक्ष पद के लिए दावेदारी कर रहे हैं, इसके साथ ही चौधरी बाबूलाल के बेटे सहित कई और भाजपा नेता जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए दावेदारी कर रहे हैं।

हरेंद्र सिंह और राजपाल की जोडी से बनी थी कुशल यादव जिला अध्यक्ष
सपा सरकार में हरेंद्र सिंह और राजपाल की जोडी ने सदस्य का चुनाव जीतने के बाद अध्यक्ष पद का चुनाव भी जीत लिया था लेकिन इसके बाद से दोनों की दोस्ती में दरार आ गई। मुकदमा तक दर्ज हो गया। अब हरेंद्र सिंह ही कुशल यादव को जिला पंचायत अध्यक्ष पद से हटाने के लिए प्लानिंग कर रहे हैं।