Honesty has virtually become endangered species, need to protect : Allahabad Highcourt

हाईकोर्ट ने तीखी टिप्पणी करते हुए कहा है कि बेईमानी और भ्रष्टाचार दैनिक कामकाज का हिस्सा बन गया है। देश में निष्ठावान लोगों की संख्या घटती जा रही है,

आगरालीक्स… हाईकोर्ट ने तीखी टिप्पणी करते हुए कहा है कि बेईमानी और भ्रष्टाचार दैनिक कामकाज का हिस्सा बन गया है। देश में निष्ठावान लोगों की संख्या घटती जा रही है, ईमानदार लोग विलुप्त प्राणी बनते जा रहे हैं, इनके संरक्षण की आवश्यकता है। सरकार को ईमानदार और निष्ठावान लोगों को प्रोत्साहित करने की योजना पर अमल करने और भ्रष्टाचारियों को दंडित करने के निर्देश दिए हैं।
हाईकोर्ट के जस्टिस सुधीर अग्रवाल व अजीत कुमार की बेंच ने नरेंद्र कुमार त्यागी द्वारा मेरठ विकास प्राधिकरण में 200 प्लांट आवंटन को चुनौती देते हुए दायर की गई याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि “Honesty has become a scarcity and virtually an endangered species. We need immediate steps to evolve a scheme (as is being practiced in respect of rare animals) to protect honest and impartial men of integrity,” the court said. कोर्ट ने आवंटन निरस्त करते हुए सकी जांच विजिलेंस से कराने के आदेश दिए हैं।
तीन महीने में सौंपे जांच रिपोर्ट
कोर्ट ने तीन महीने में जांच रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए हैं, प्रमुख सचिव शहरी विकास को जांच में दोषी पाए गए अधिकारियों के खिलाफ विभागीय एवं आपराधिक कार्रवाई एक साल के भीतर पूरी कर दंडित करने का निर्देश दिया है।