Dr BR Aambedkar Univ. Agra Registrar RP Singh Transfer

आगरा के डॉ भीमराव आंबेडकर विवि में कुलपति और कुलसचिव के बीच चल रही रार पर विराम लग गया, कुलसचिव आरपी सिंह का तबादला हो गया है।

आगरालीक्स …आगरा के डॉ भीमराव आंबेडकर विवि में कुलपति और कुलसचिव के बीच चल रही रार पर विराम लग गया, कुलसचिव आरपी सिंह का तबादला हो गया है। उन्हें आंबेडकर विवि के कुलसचिव पद से स्थानांतरित करते हुए अपर आयुक्त आगरा बनाया गया है। पहले वे इसी पद पर थे और उन्हें आंबेडकर विवि का कुलसचिव बनाया गया था।
आगरा के आंबेडकर विवि में लंबे समय से खाली चल रहे कुलसचिव के पद पर आगरा के एडिशनल कमिश्नर आरपी सिंह को नियुक्ति किया गया था, उन्होंने अक्टूबर 2017 में कार्यभार ग्रहण किया। इसके बाद से कुलपति डॉ अरविंद दीक्षित और कुलसचिव आरपी सिंह के बीच विवाद बढता गया। एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाए गए, कुलसचिव आरपी सिंह ने कुलपति डॉ अरविंद दीक्षित पर भर्तियों में गडबडी से लेकर तमाम आरोप लगाए। इसी बीच उप कुलसचिव के पद से कुलसचिव के पद पर पदोन्नत हुए केएन सिंह को कुलपति ने कुलसचिव बना दिया, इसका भी कुलसचिव आरपी सिंह ने विरोध किया था। ऐसे में मंगलवार को 61 वरिष्ठ पीसीएस के तबादले किए गए, इसमें आंबेडकर विवि के कुलसचिव आरपी सिंह को अपर आयुक्त आगरा बना दिया गया।
21 अक्टूबर को बनाया गया कुलसचिव
21 अक्टूबर 2017 को आगरा में तैनात एडिशनल कमिश्नर आरपी सिंह को विवि का कुलसचिव बनाया गया है। विवि के कार्यवाहक कुलसचिव केएन सिंह अब उप कुलसचिव परीक्षा नियंत्रक का कार्य देखेंगे।
विवि में लंबे समय से कुलसचिव की तैनाती नहीं हुई थी, बीच में विवि में भेजे गए कुलसचिव यहां की अव्यवस्थाएं देखने के बाद वापस चले गए थे। शासन स्तर से 18 पीसीएस के तबादले किए गए हैं। इसमें आगरा के एडिशनल कमिश्नर आरपी सिंह को कुलसचिव डॉ भीमराव अंबेडकर विवि बनाया गया है, वे 1999 बैच के पीसीएस हैं।
2015 में अशोक ​अ​रविंद बने थे कुलसचिव
भीमराव अंबेडकर विवि के कुलसचिव अशोक अरविंद का तबादला कर दिया गया है। शासन स्तर से हुए तबादले में उन्हें गोरखपुर विवि का कुलसचिव बनाया गया है, लेकिन आगरा में नए कुलसचिव की तैनाती नहीं की गई है। कुलपति प्रो मोहम्मद मुजम्मिल ने परीक्षा नियंत्रक केएन सिंह को कुलसचिव का कार्य दिया है।
दिसंबर 2015 में गोरखपुर विवि के कुलसचिव अशोक अरविंद को अंबेडकर विवि, आगरा का कुलसचिव बनाया था। छह महीने बाद ही उनका तबादला गोरखपुर विवि कर दिया गया है।