CM Yogi Adityanath Political chair episode in Agra

आगरा में सीएम योगी आदित्यनाथ के जाने के बाद किस्सा कुर्सी का शुरू हो गया है, यह वही कुर्सी है जिस पर सीएम योगी बैठे थे,

आगरालीक्स… आगरा में सीएम योगी आदित्यनाथ के जाने के बाद किस्सा कुर्सी का शुरू हो गया है, यह वही कुर्सी है जिस पर सीएम योगी बैठे थे, इससे पहले पीएम की कुर्सी चर्चा में रही थी। सीएम योगी आदित्यनाथ के जाने के बाद उनकी कुर्सी पर बैठकर मुस्कुराते हुए विधायक राम प्रताप चौहान ने अपना फोटो सोशल मीडिया पर शेयर किया है।
मंगलवार को सीएम योगी आदित्यनाथ एससी आयोग के अध्यक्ष डॉ राम शंकर कठेरिया के घर नाश्ते पर आए थे। उनके साथ फोटो कराने के लिए बडे बडे लोग लाइन में लगे रहे, सीएम योगी आदित्यनाथ के जाने के बाद खाली कुर्सी को देखकर जनप्रतिनिधियों का मन आ गया। वे भी कहां पीछे रहते, सीएम योगी जिस कुर्सी पर बैठे थे, उस पर ​बैठकर फोटो कराने लगे। इसे लेकर भी चर्चाएं हो रही हैं।
पीएम मोदी की कुर्सी बनी थी हॉट केक
आगरा के कोठी मीना बाजार मैदान में 21 नवंबर 2013 को हुई विजय शंखनाद रैली में नरेंद्र मोदी मंच पर रखी इसी कुर्सी पर कुछ देर के लिए बैठे थे। मोदी के लौटते और रैली खत्म होते ही ‘हॉट केक’ बनी कुर्सी की बोली लगनी शुरू हो गई थी। भाजपा के एक कार्यकर्ता ने टेंट मालिक प्रमोद उपाध्याय से कुर्सी लेने की पेशकश की, इसके बाद तो कुर्सी की बोली लगने लगी।
सांसद और विधायक भी इसमें कूद पड़े। हाल यह कि सामान्य सी इस कुर्सी की कीमत अब तक सवा लाख रुपये तक पहुंच चुकी है। कार्यकर्ताओं का मानना है कि देश का भावी प्रधानमंत्री जिस कुर्सी पर बैठा हो, वह उनके घर हो तो उनके लिए सौभाग्य की बात होगी। दरअसल, एक कार्यकर्ता ने मंच की व्यवस्था करने वाले पार्टी के ही पार्षद और टेंट हाउस संचालक प्रमोद उपाध्याय को दो हजार में वह कुर्सी बेचने का प्रस्ताव दिया, बोली अब सवा लाख तक पहुंच चुकी है। विधायक योगेंद्र उपाध्याय ने 1.11 लाख रुपये कीमत लगा दी। सांसद राम शंकर कठेरिया 1.21 लाख देने को तैयार हुए तो विधायक जगन गर्ग ने 1.25 लाख का प्रस्ताव दे डाला।
नहीं बेची थी कुर्सी
प्रमोद उपाध्याय का कहना है कि पार्टी के कई नेता फोन कर कुर्सी को खरीदने की पेशकश कर चुके हैं। लेकिन वह इसे किसी भी कीमत पर बेचने को तैयार नहीं हैं।
मोदी के जाते ही लगने लगी थी कुर्सी की बोली