आगरा में मृत अपराधी 32 साल बाद जिंदा मिला

आगरा में 30 साल की उम्र के अपराधी को मृत घोषित कर दिया, 32 साल बाद 62 साल की उम्र में वह जिंदा मिला

आगरालीक्स…. आगरा में 30 साल की उम्र के अपराधी को मृत घोषित कर दिया, 32 साल बाद 62 साल की उम्र में वह जिंदा मिला, पुलिस ने उसे अरेस्ट कर जेल भेज दिया है। वह सालों से आगरा के ताजगंज के खैराती टोला में कबाड़ का काम कर रहा था।
इंस्पेक्टर ताजगंज ने बताया कि वर्ष 1983 में अब्दुल समद के खिलाफ ऑयल टैंकर गायब करने का मुकदमा दर्ज हुआ था। अब्दुल समद पुत्र अब्दुल रहीम मूल रूप से मथुरा का रहने वाला है। उसने कई लोगों के साथ धोखाधड़ी की थी। उनसे लाखों रुपया लेकर हड़प लिया था। पुलिस उसकी तलाश कर रही थी लेकिन परिवार वाले कह रहे थे कि वह बीमारी से मर गया है। कोर्ट में 1985 शपथ पत्र दाखिल कर दिया गया। कोर्ट ने उसे मृत नहीं माना, उसका मृत्यु प्रमाण पत्र दाखिल नहीं किया गया था। उसके स्थाई वारंट जारी थे। आरोपित मथुरा से आगरा में आ गया। खैराती टोला में कबाड़ का काम करने लगा। पिछले दिनों पुलिस को जानकारी मिली कि अब्दुल समद मथुरा पुलिस का वांछित है। उसके ही एक परिचित ने पुलिस को इसकी जानकारी दी थी। मथुरा संपर्क किया गया। रिकार्ड निकलवाया गया। जानकारी सही थी। इसी आधार पर उसे पकड़ लिया गया। मथुरा पुलिस आई और उसे साथ ले गई। आरोपित जेल में है। पुलिस के अनुसार गिरफ्तारी के समय अब्दुल समद ने पुलिस को गुमराह किया। पुलिस से उलझ गया। यह पूछने लगा कि किस आरोप में पकड़ा है। उसके खिलाफ कोई मुकदमा दर्ज नहीं है। पुलिस को हकीकत सामने लाने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। उससे कई सवाल पूछे गए। वह उनमें उलझता चला गया। घरवालों से बातचीत की गई। तब कहीं जाकर हकीकत सामने आ पाई।