5th UP Arthroplasty course start in Agra

आगरा में यूपी आॅर्थोप्लास्टी कांपफ्रेंस में रेनब हॉस्पिटल में कंप्यूटर असिस्टेड जोड प्रत्यारोपण किया गया।

आगरालीक्स…. आगरा में यूपी आॅर्थोप्लास्टी कांफ्रेंस में रेनबो हॉस्पिटल में कंप्यूटर असिस्टेड जोड प्रत्यारोपण किया गया आॅर्गनाइजिंग चेयरमैन डा. अनूप खरे ने बताया कि जोड़ प्रत्यारोपण विशेषज्ञों का यह सम्मेलन एवं कार्यशाला पहली बार आगरा में आयोजित हो रही है। इसमें प्रदेश भर से करीब 200 अस्थि एवं जोड़ प्रत्यारोपण विशेषज्ञ हिस्सा ले रहे हैं। एसएन मेडिकल काॅलेज में सह-आचार्य एवं आयोजन सचिव डा. अमृत गोयल ने बताया कि काॅन्फ्रेंस में दो दिनों तक विशेषज्ञों द्वारा जोड़ प्रत्यारोपण की आधुनिक तकनीकों पर व्याख्यान दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि अब सरकारी अस्पतालों में भी जोड़ एवं कूल्हा प्रत्यारोपण की सुविधा तेजी से विकसित हो रही है।
rainbow 4
एसएन मेडिकल काॅलेज में महज 60 से 70 हजार रूपये के खर्च पर मरीजों को इसका लाभ मिल पा रहा है। यह सम्मेलन ख्याति प्राप्त अस्थि रोग विशेषज्ञ डा. अरूण मुल्ला जी, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) दिल्ली से सेवानिवृत्त प्रो. सूर्यभान, दिल्ली के डा. शेखर अग्रवाल, मैक्स अस्पताल के डा. अनिल अरोडा, अपोलो हाॅस्पिटल के डा. केवी अतरी, विम्हंस अस्पताल के डा. राजीव शर्मा, यूपी आॅर्थोपेडिक सोसाइटी के अध्यक्ष डा. अतुल श्रीवास्तव, सचिव डा. आशीष कुमार आदि की मौजूदगी में होगी। रेनबो आईवीएफ की निदेशक डा. जयदीप मल्होत्रा एवं रेनबो हाॅस्पिटल के निदेशक डा. नरेंद्र मल्होत्रा ने बताया कि यह गौरव की बात है कि आगरा में लगातार बडे चिकित्सकीय सम्मेलन आयोजित हो रहे हैं। इससे यहां चिकित्सा सेवाओं और संसाधनों में भी बढ़ोत्तरी हो रही है। रेनबो हाॅस्पिटल से समय-समय पर विभिन्न चिकित्सा क्षेत्रों की लाइव वर्कशाॅप आयोजित की जा रही हैं, जिससे चिकित्सकों को अपना ज्ञान बढ़ाने का मौका मिलता है। इस अवसर पर आगरा आॅर्थोपेडिक सोसाइटी के अध्यक्ष डा. अशोक विज, सचिव डा. अतुल कुलश्रेष्ठ, एसएन मेडिकल काॅलेज में अस्थि रोग विभाग के अध्यक्ष डा. सीपी पाल आदि मौजूद होंगे।
orthoplasty
29 लोगों की फैकल्टी बाहर से….
सम्मेलन में देश-प्रदेश के 29 विशेषज्ञों की फैकल्टी बाहर से आ रही है, जो युवा चिकित्सकों को जोड प्रत्यारोपण की आधुनिक और नवीनतम तकनीकों से रूबरू कराएगी। सम्मेलन में उपचार की सुविधाओं और नए शोधों के बारे में भी जानकारी प्रदान की जाएगी। सम्मेलन में जोड़ प्रत्यारोपण के साथ ही कंधे की सर्जरी, एड़ी और पंजे का इलाज समेत ट्राॅमा विशेषज्ञ भी अपने अनुभव साझा करेंगे।

डा. अरूण मुल्ला जी के बारे में….
इंडियन सोसाइटी फाॅर टेक्नोलाॅजी इन आॅर्थोप्लास्टी के बोर्ड आॅफ गवर्नर और इंडियन सोसाइटी आॅफ हिप एंड नी सर्जन्स के वाइस प्रेसीडेंट इलेक्ट डा. अरूण मुल्ला जी ब्रीच कैंडी हाॅस्पिटल मुंबई के जोड़ प्रत्यारोपण विशेषज्ञ होने के साथ ही हिंदुजा हैल्थकेयर में सर्जिकल डायरेक्टर भी हैं। 12000 से अधिक सर्जरी कर चुके और 80 से अधिक वैज्ञानिक शोध-पत्र लिख चुके डा. अरूण मुल्ला जी एशिया पैसेफिक आॅर्थोप्लास्टी सोसाइटी, ब्रिटिश आॅर्थोपेडिक एसोसिएशन, ब्रिटिश आॅर्थोपेडिक रिसर्च सोसाइटी, नी सोसाइटी, यूरोपियन नी सोसाइटी, इंडियन आॅर्थोपेडिक एसोसिएशन और इंडियन सोसाइटी आॅफ हिप एंड नी सर्जन्स के सदस्य और इंडियन सोसाइटी आॅफ हिप एंड नी सर्जन के संस्थापक सदस्य व एशिया पैसेफिक आॅर्थोप्लास्टी सोसाइटी के पूर्व अध्यक्ष भी हैं। एक पोस्ट ग्रेचुएट फैलोशिप प्रोग्राम के तहत उन्होंने विश्व में 100 से ज्यादा सर्जन्स को प्रशिक्षित किया है। साथ ही आॅस्टेलिया, हांगकांग, इंडोनेशिया, चाइना, साउथ अफ्रीका, बांग्लादेश और भारत में सर्जरी का लाइव डेमोस्ट्रेशन भी करते हैं ।

आधुनिक तकनीकों से आसान हुए घुटना-कूल्हा प्रत्यारोपण…..
आॅर्गनाइजिंग चेयरमैन डा. अनूप खरे ने घुटना एवं कूल्हा प्रत्यारोपण की आधुनिक तकनीकों को मरीजों के लिए वरदान बताया। उन्होंने कहा कि अब पीड़ित घुटने या कूल्हे बदलवाकर आराम से अपना जीवन व्यतीत कर सकते हैं, जबकि पूर्व के वर्षों में इसमें जटिलताएं अधिक होती थीं। आज कंप्यूटर असिस्टेट सर्जरी ने भी इसे काफी आसान बनाया है। इसके जरिए आॅपरेशन के दौरान आस-पास की मांसपेशियों को क्षतिग्रस्त होने से बचाया जा सकता है।